22 जनवरी 2013

काश ! हम जी रहे होते....



काश ! हम जी रहे होते
सबके आंशू, पी रहे होते
गूंजती, देखते गर, हवाओं में चीखें
कुछ रिश्ते पिरो रहे होते
बात होती रही , सदियों से, संस्कारों की
बिखरते रिश्तों की ,
कुत्सित विकारों की,
राम-राज्य की यादें संजो रहे होते
काश हम जी रहे होते ....
खोज लेते कोई गृह, नया आसमा
नयी पृथ्वी संजो रहे होते
काश ! हम जी रहे होते ...
मिल ही जाती कोई और
चाँद सी पृथ्वी
सीप से मोती...
सागर के तह में जो गए होते
काश हम जी गए होते ....

11 टिप्‍पणियां:

  1. "जी" ही तो नहीं रहें है हम, बस जी रहे हैं - प्रभावी उदगार

    उत्तर देंहटाएं
  2. उलाहना |
    सटीक -
    शुभकामनायें आदरणीय ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस इस एक काश पे ही तो दुनिया अटकी है या यूं कहें की चल रही है मैंने भी कुछ ऐसा ही लिखा है समय मिले आपको तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.co.uk/

    उत्तर देंहटाएं
  4. काश,आपकी कल्पना को हम सब सोचते ! बहुत ही सुन्दर सोच।

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजवाब प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  6. मिल ही जाती कोई और
    चाँद सी पृथ्वी
    सीप से मोती...
    सागर के तह में जो गए होते
    काश हम जी गए होते ....
    vah sunder bhav bhari kavita
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  7. काश! हमम्म्म्मम्म्म्म जी रहे होते !!!
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में