30 जुलाई 2012

प्यार को छाव में



ले तो आये हो हमें
सपनो के गाव में
प्यार को छाव में
बिठाये रखना
सजना
ओ सजना
सपनों में तेरे तैरते तैरते
सूखी नदी हो गयी
सारी कायनात
और मैं
हाथ में भरते भरते
बालू के कण
न जाने कब से
पानी की आस देखती रही
न जाने कितने रेत  के महल
बने भी
उजड़े भी
न रहा आस पास
कोई  गाँव
न रही सजना की
प्यार की छाव
एक दसक रही अभागी
बड़े, छोटे
अंदरी, बाहरी
नातेदार, आने जानेवाले
सभी के बेरहम ताने
घाव से चिपकते रहे रिश्ते  नाते
जीती रही इस आस में
कभी तो सुबह होगी
और सूरज
मुझे भी रोशनी  छूने देगा
बारिश मेहरबान हुयी
भिगो गयी तन मन
मेरे  रक्त के कतरे
अब और नहीं रिसने देंगे
मेरे जख्मों को
छूकर
सहलाकर
सारी पीड़ा आत्मसात्कर
मुझे
ले जायेंगे
सपनों के गाव
बिछायेंगे प्यार की छाव
घटाओं से झांकता सूरज
रोशनी नहीं छिपा सकता
मुझसे अब और दूर नहीं रह सकती
चांदनी
अब इस उम्मीद के सिवा
और कोई रास्ता भी तो नहीं
शायद अब
शिकायत करने का
न घर बचा
न समय .

-कुश्वंश



14 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...
    एक गाने से पूरी रचना का सृजन.....
    सुन्दर!!!

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी भावाव्यक्ति , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर शब्द चयन और अभिव्यक्ति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भाव... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  5. शायद अब
    शिकायत करने का
    न घर बचा
    न समय ....

    Yes, probably true...

    .

    उत्तर देंहटाएं
  6. ानुभूतियों का सुन्दर संसार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शिकायत भी करें तो किससे ? सुनने के लिए वक़्त ही कहाँ है किसी के पास .... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut sundar srijan,badhai.
    प्रिय महोदय

    "श्रम साधना "स्मारिका के सफल प्रकाशन के बाद

    हम ला रहे हैं .....

    स्वाधीनता के पैंसठ वर्ष और भारतीय संसद के छः दशकों की गति -प्रगति , उत्कर्ष -पराभव, गुण -दोष , लाभ -हानि और सुधार के उपायों पर आधारित सम्पूर्ण विवेचन, विश्लेषण अर्थात ...


    " दस्तावेज "

    जिसमें स्वतन्त्रता संग्राम के वीर शहीदों की स्मृति एवं संघर्ष गाथाओं , विजय के सोल्लास और विभाजन की पीड़ा के साथ-साथ भारतीय लोकतंत्र की यात्रा कथा , उपलब्धियों , विसंगतियों ,राजनैतिक दुरागृह , विरोधाभाष , दागियों -बागियों का राजनीति में बढ़ता वर्चस्व , अवसरवादी दांव - पेच तथा गठजोड़ के दुष्परिणामों , व्यवस्थागत दोषों , लोकतंत्र के सजग प्रहरियों के सदप्रयासों , ज्वलंत मुद्दों तथा समस्याओं के निराकरण एवं सुधारात्मक उपायों सहित वह समस्त विषय सामग्री समाहित करने का प्रयास किया जाएगा , जिसकी कि इस प्रकार के दस्तावेज में अपेक्षा की जा सकती है /

    इस दस्तावेज में देश भर के चर्तित राजनेताओं ,ख्यातिनामा लेखकों, विद्वानों के लेख आमंत्रित किये गए है / स्मारिका का आकार ए -फोर (11गुणे 9 इंच ) होगा तथा प्रष्टों की संख्या 600 के आस-पास / इस अप्रतिम, अभिनव अभियान के साझीदार आप भी हो सकते हैं / विषयानुकूल लेख, रचनाएँ भेजें तथा साथ में प्रकाशन अनुमति , अपना पूरा पता एवं चित्र भी / विषय सामग्री केवल हिन्दी , उर्दू अंगरेजी भाषा में ही स्वीकार की जायेगी / लेख हमें हर हालत में 10 सितम्बर 2012 तक प्राप्त हो जाने चाहिए ताकि उन्हें यथोचित स्थान दिया जा सके /

    हमारा पता -

    जर्नलिस्ट्स , मीडिया एंड राइटर्स वेलफेयर एसोसिएशन

    19/ 256 इंदिरा नगर , लखनऊ -226016

    ई-मेल : journalistsindia@gmail.com

    मोबाइल 09455038215

    उत्तर देंहटाएं
  9. . कविता बढ़िया बनी है... मन को छूती हुई

    उत्तर देंहटाएं
  10. . मन को छूती हुई ,सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्यार और मनुहार का ये स्वर मनोहारी है

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में