2 अगस्त 2012

बंधन..... ऐसे ही होते है .


बंधन
कुछ 
ऐसे  होते हैं 
साथ जुडें तो 
बने हिमालय 
टूटें तो 
सदियों रोते है 
बंधन बस 
ऐसे होते हैं 
पक्के हों 
या 
निर्मल  कच्चे 
धवल दुग्ध से 
मोती सच्चे 
शिशु से पालित 
स्नेह तिरोहित 
गहरी जड़े 
जमीन बोते है 
रिश्ते बस ऐसे होते है 
वृक्ष
नदी 
पहाड़ 
और झरने 
ऋतुये, 
जीव-जंतु 
भूमंडल 
रिश्ते स्वांश-स्वांश होते है 
बंधन 
ऐसे ही होते है .

-कुश्वंश  






24 टिप्‍पणियां:

  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर .............रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावमय करती प्रस्‍तुति ...
    इस स्‍नेहिल पर्व की आपको अनंत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ बंधन ऐसे होते हैं जो सच्चे होते हैं --जैसे राखी का बंधन .
    सुन्दर रचना .
    रक्षाबंधन की शुभकामनायें .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत -बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    राखी पर्व की हार्दिक शुभकामनाये :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. सचमुच, कुछ बंधन ऐसे होते हैं.
    साथ जुड़ें तो बने हिमालय
    टूटे तो सदियों रोते हैं....

    अनुपम बात कह दी, वाह !!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत प्यारी रचना.....

    शुभकामनाये..
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना |रिश्तों को समझना और निभाना सरल नहीं होता |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  10. "निर्मल कच्चे
    धवल दुग्ध से
    मोती सच्चे
    शिशु से पालित
    स्नेह तिरोहित
    गहरी जड़े
    जमीन बोते है "

    क्या बात कही है सर ....मन को छू जाने वाली
    बिल्कुल बाबा नागार्जुन की शैली में
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. कुछ बन्धन ऐसे यहाँ, जिनमें है सम्बन्ध।
    मोहपास में जकड़ते, प्यारभरे अनुबन्ध।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही कहा रिश्तो के बंधन को समझ कर उन्हे सारी जिन्दगी बिना शर्त के निभा ना उतना आसान भी नहीं होता...सार्थक रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बंधन ऐसे ही होते हैं , होने भी चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  14. रिश्तों के बंधन से बंधा, ये सारा संसार
    सबके अपने मायने,अहसास बना आधार ,,,,

    राखी पर्व की हार्दिक शुभकामनाए,,,,

    RECENT POST ...: रक्षा का बंधन,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुंदर विश्लेषण.... भाव भरी रचना...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बंधन
    कुछ
    ऐसे होते हैं
    साथ जुडें तो
    बने हिमालय
    टूटें तो
    सदियों रोते है
    बंधन बस
    ऐसे होते हैं

    कितनी सुंदर पंक्तियाँ ..!
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच कहा बंधन ऐसे ही होते हैं ....कभी नाज़ुक सा सूत्र भी थामे रखता है तो कभी मजबूत श्रृंखलाएं भी कमजोर साबित होती हैं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर रिश्तों का बाखूबी विश्लेषण किया है खूबसूरत प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर भाव लिए .... बंधन ही तो हैं जो बांध लेते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  20. बंधन
    कुछ
    ऐसे होते हैं
    साथ जुडें तो
    बने हिमालय
    टूटें तो
    सदियों रोते है

    ....लाज़वाब...बहुत सटीक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  21. ऐसे बंधन जीवन को सौगात में मिलते हैं. सुन्दर रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर व्याख्या

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में