11 अगस्त 2011

स्वतंत्रता दिवस मनाएं


घर घर में
झंडा फहराएं,
आओ..!
स्वतंत्रता दिवस मनाएं..........
गली, मोहल्ले
महल, अटारी,  
रहे जगह ना कोई खाली ,
भूल गए जो देश धर्म को, 
मानव हित समाज कर्म को,
उनको  फिर से याद दिलाएं,

आओ..!
स्वतंत्रता दिवस मनाएं............
जो  सरहद की गर्मी
भूले,
सम्रधता के झूलें
झूले,
उन्हें तिरंगा याद दिलाएं,
आओ..!
स्वतंत्रता दिवस मनाएं...........
सुप्त पडी जो देश भावना ,
घर क़र   बैठी स्वयं कामना,
हृदय खीच क़र धुल चटायें,
आओ..!
स्वतंत्रता दिवस मनाएं...........
खल  चरित्र ने देश बिगाड़ा,
झूठी खादी ने किया कबाड़ा,
देश भक्त हुए सूखी लकड़ी, 
उनमें  फिर चिंगारी सुलगाएं,  
देश प्रेम की अलख जगाये,
आओ..!
स्वतंत्रता दिवस मनाएं..........
अगर एक भी  
बदल गया दिल,
राह नहीं फिर होगी  मुश्किल ,
सोये  भारतवासी  जागें,   
मिल जाएगी 
निश्चित मंजिल , 
सपने  देखे,
कदम बढ़ाएं,
आओ..!
स्वतंत्रता दिवस मनाएं........

-कुश्वंश



हिंदी में