5 मई 2014

बेटियाँ


पलती है
बढ़ती हैं
आँगन मे पायल की रुंझुन सा
संगीत गढ़ती हैं
कभी पीठ पर
कभी  गरदन पर
प्यार से लटक जाती है
और कभी गमले से कुरेदकर मिट्टी
असफल छुपाती है
और कभी
हाथ बढ़ा हमारे मुह मे लगाती है
देखती है तकरार होते
दरवाजे की ओट से
डरी सी, सहमी सी, निर्दोष
मुस्कुराहट का मरहम लगाती है
जाते ही स्कूल गढ़ती है नए क्षैतिज, नए आसमान
और कर जाती है गर्वित
नम आँखों से जब भी
होती हैं विदा
इस घर से उखाड़कर जैसे रोपा हो कोई पौधा कही और
एकदम से नए लोग, नए रीतिरिवाज
सबमे बखूबी रास्ता निकालती हैं
सामंजस्य बैठाती है
और जब भी लौट कर
घर आती है
समझाती है चिंता न करो माँ' मैं  ठीक हू , खुश हू
भैया के लिए लायी हू  ढेर सी दुआएं
तुम्हारे लिए कश्मीरी शाल
पापा के लिये  सिल्क का कुर्ता
भाभी के लिए जार्जेट की साड़ी
मैं  डबडबायी आँखों से  देख रहा हू निर्बोध स्नेह
बेटियाँ  क्या ले जाती है,
क्या लेने आती है
वो तो सिर्फ देने आती है
ढेर सा स्नेह
अप्रतिम दुआएं
और जीवन भर के लिए शुभकामनायें
हृदय से  शुभकामनायें

-कुशवंश



7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना बुधवार 07 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन सीट ब्लेट पहनो और दुआ ले लो - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन को छू गयी आपकी यह रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बढ़िया सर!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में