16 सितंबर 2013

असली दंगों के असली भेड़िये ........ कौन ...?



दरवाजे की
घंटी बजती है
दरवाजे पर शकीरा की बेटी खड़ी है
अम्मी ने एक कटोरी चीनी मागवायी है
वो कटोरी आगे बढ़ा देती है
आओ बेटा
मै चीनी से कटोरी भर देती हूँ
और काम काज मे लग जाती हू
शकीरा ने कब चाय बनाई
और किसे पिलाई नहीं जानती
शाम होती है
शकीरा के घर मे गहमा गहमी है
मेरे पति अभी अभी आए है
मै उनको  चाय देती हूँ
तभी ज़ोर ज़ोर से दरवाजा पीटा जाता है
कौन  है बद्तमीज़
मेरे पति तेजी से दरवाजे की ओर बढ़ते है
मै उनके पीछे-पीछे हूँ
दरवाजे पर हुजूम है
लाठी डंडों से लैस
वो धकेलकर अंदर घुस जाते है
और सारा घर तहस नहस कर देते है
मुझे और मेरे पति हो
मरणासन छोड़ जाते है
फिर गहमा गहमी
चीखने चिल्लाने की आवाज़
घर मे कई और घुश आते है
कोई मुझे पानी पिलाता है
कोई पति की मरहम पट्टी करता है
और ज़ोर ज़ोर से नारे लगाते है
और बाहर निकल जाते है
भागो भागो का शोर
पूरे मोहल्ले मे फैल जाता है
आती है शायरन की आवाज़
धम्म धम्म ,
भारी भरकम  जूतों की  लय माय ताल
लाउडिस्पीकर की आवाज़
कोई घर से न निकले
कर्फ़ू लगा है
दूर कहीं गूँजती है हैलिकोपटर की आवाज़
मरने वालों को सरकारी नौकरी
मुआवजा और सांप्रदायिक सद्भाव से रहने की शीख
मै दहशत मे हू
शकीरा सेप्टिक से जूझ रही है
जो मेरी भेजी हुयी शक्कर मे निकली पिन से हुयी
घोषित की गई थी
दंगों मे  सत्ताईस लोग मारे गये
कितने किस धर्म के
नही पता
कैसे शुरू हुआ दंगा
जीतने मुह उतनी बाते
कोई कटोरी भर चीनी को मानता है
कोई
मेरे सर मे बंधी पट्टी को
किसी को इतनी फुर्सत कहाँ
जो तलाशे
असली गुनहगार , असली भेड़िये
जानते हुये भी ........

6 टिप्‍पणियां:

  1. दंगों की असलियत ! कितनी गुमराह सी !
    मार्मिक प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १७/९/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. किसी को इतनी फुर्सत कहाँ
    जो तलाशे
    असली गुनहगार , असली भेड़िये------परिस्थिति पर सही टिप्पणी -बहूत सुन्दर रचना
    latest post: क्षमा प्रार्थना (रुबैयाँ छन्द )
    latest post कानून और दंड

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में