19 सितंबर 2013

धर्म तुम क्या हो ?


धर्म तुम क्या हो ?
ईंट गारे  से बने
मंदिर हो
मस्जिद हो
गुरुद्वारा हो
चर्च हो
या फिर
मानवीय समवेदनाओं
विस्वास और प्रेम के
मर्यादा पुरुषोत्तम
राम हो
मोहम्मद साहब हो
गुरु नानक हो
या फिर
सलीब चढ़े ईसू हो
या इस सब के इतर
गोलियो
बमों
छुरों ऐवम
रक्तरंजित तलवार की नोंक पर  टंगे
निरीह मासूमों की
चीत्कार हो
दिलों मे सदियों तक
फासले बढ़ाने वाली
दीवार हो
धर्म तुम क्या हो ?
मुझे बताओ
मुझे बताओ
....

हिंदी में