25 जुलाई 2013

निरअर्थ




कभी हवाओं  से मार देते हो
कभी घटाओं  से मार देते हो
जब भी चलता नहीं बस… कोई 
कातिल
अदाओं  से मार देते हो…
मर मर के ही
जीने का
कहाँ अर्थ है कोई
घूँट घूँट आंशुओं को ही
पीने का
विकल्प है कोई
चीखने चिल्लाने का
कहाँ रहा है
कोई अर्थ
तुम तो कभी-कभी
निरअर्थ मार देते  हो …।



10 टिप्‍पणियां:


  1. किसी की अदाओं पर मरना भी जिंदगी है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(27-7-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अर्थ को अर्थ से समझने की जरुरत है

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा ... उके अंदाज को बाखूबी लिखा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुम तो कभी-कभी
    निरअर्थ मार देते हो
    bahut sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में