15 अगस्त 2012

स्वतंत्रता दिवस जिन्दाबाद




सुबह हुयी 
कुछ जल्दी हुयी 
प्रभात फेरी की हुंकार भरते लोग 
उसके बाद 
लाइन से निकलते स्कूल के बच्चे 
छोटे छोटे तिरंगे हाथों में लिए 
टीचर जी हाथ में छडी लिए 
लाइन  ठीक करा रहे थे 
मगर बच्चे तो 
लाइन से भटक ही जाते है 
चारो तरफ शोर था
इन्साफ की डगर पर
बच्चो दिखाओ चलके 
ये देश है तुम्हारा 
नेता तुम्ही हो कल के ....
भीड़ स्कूल पहुच गयी थी 
नेताजी झंडा फहराने आने वाले थे 
वे तीन घंटे लेट आये 
आते ही बोले 
बड़ा व्यस्त कार्यक्रम था 
ये सातवा झंडा रोहण  है 
बच्चे चिल्ला रहे थे 
जय हिंद 
भारत माता की जय 
नेता जी चले गए थे 
किसी और  झंडा रोहण  में 
बच्चे लड्डू के लिए 
लाइन में लगे थे 
...
वो उधर पार्क में
उधर चौराहे पर भी 
एक और झंडा रोहण में नेताजी का इंतज़ार है 
लोग  झुण्ड लगाये खड़े थे
भीड़ तो चौराहे पर भी नहीं है 
लोग तो घर से निकलते ही नहीं 
देश तो पातळ में जायेगा ही 
इस रास्ट्रीय पर्व पर भी 
कितने असंवेदनशील हैं लोग 
अब देश का कुछ नहीं हो सकता 
....
चौराहे पर केले बटे  थे 
पार्क में बर्फी 
मगर भीड़ कही नहीं थी 
शाम होने को आयी 
पार्क का झंडा उतरने की 
किसी को सुध नहीं थी 
गलियों में 
सड़क पर 
बिखरे पड़े थे 
सुबह तक जो  हाथों में थे 
नन्हे तिरंगे 
स्वतंत्रता दिवस जिन्दाबाद
भारत माता की जय 
वन्दे मातरम् 
..

कुश्वंश 

  


हिंदी में