3 फ़रवरी 2012

मेरा नाम













कभी कभी
अन्दर से निकल कर
जब मैं  
बाहर आ जाता हूँ
तो स्वयं को पहचान ही नहीं पाता हूँ
खो जाती है मेरी पहचान
वो जो
कभी तुमने
कभी औरों ने दी
मैं तो बस इसके उसके
मुह को ताकता हूँ
और गुजारिश करता हूँ
मुझे देदो कोई नाम
जो सिर्फ मेरा अपना हो
और मैं
कभी स्कूल बस के पीछे भागता हूँ
कभी मोहल्ले की उस 
कोने वाली लडकी  के पीछे
और  चांटे खाकर
थका हारा  
किसी और के पीछे भागता हूँ
कालांतर में
आटा दाल के पीछे
और उसके बाद
भावनाओं के समुन्दर  में
बच्चो की दया के   पीछे
पत्नी भी घिसटती है साथ साथ
मै नाम पूछता हूँ
वो विद्रूप हंशी हंसती है
मगर मेरा नाम नहीं बताती
जानते हुए भी
मन ही मन
कई बार बुदबुदाती है
और अन्दर ही अन्दर  कई बार बोलती है
खपच्चियों में कसा
एक नर कंकाल
जिसके सैकड़ों नाम है
मगर असल में कोई नहीं
नर कंकाल भी नहीं .

-कुश्वंश





25 टिप्‍पणियां:

  1. कटु सत्य की बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन प्रस्तुति,

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन प्रस्तुति...खोजने पर भी नाम नहीं मिलता|

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहन भाव लिए हुए..
    सार्थक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर एवं गहन अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. http://aapki-pasand.blogspot.com/2012/02/blog-post_03.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिसके सैकड़ों नाम है
    मगर असल में कोई नहीं
    नर कंकाल भी नहीं .
    यही सच्चाई है... गहन अभिव्यक्ति... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर, गहन विचार लिये
    सार्थक प्रस्तुती ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. गहन भाव लिए बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति.......

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनी पहचान को पहचानना ज़रूरी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कालांतर में
    आटा दाल के पीछे
    और उसके बाद
    भावनाओं के समुन्दर में.यही तो जीवन कि सच्चाई है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन तो एक ही होता है , दस बीस तो नही । आपकी कविता मन के संबेदनशील तारों को झंकृत कर गई । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद । .

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच्चाई बयां करती कविता

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन भाव पूर्ण सार्थक रचना,

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहतरीन भाव पूर्ण सार्थक रचना,

    उत्तर देंहटाएं
  16. अनुपम भाव संयोजन के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. खपच्चियों में कसा
    एक नर कंकाल
    जिसके सैकड़ों नाम है....
    अद्भुत भावसंयोजन.. हतप्रभ करती विचार शृंखला....
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में