17 जुलाई 2011

सफ़र अंत...........










बढ़ते रहे
गड़े हुए घुटने
बचपन के
                            ढोते रहे
                            बस्ते का बोझ
                            लड़कपन में
पढ़ते रहे
आहट सुगंध की
तरुणाई में
                             युवा हुए
                             बांधे थी हाँथ पाँव
                             रोजगारी
अभावों पर
सिसकते सम्बन्ध
चालीस वर्ष
                             पौढ़ हुए
                             बस गयी कही दूर
                             कलेजे की गंध
रक्त चुका
बोझ अब  शरीर
सफ़र अंत .


-कुश्वंश

हिंदी में