3 मार्च 2011

मेमने की जान

मै देख रहा हूँ
उस घर में इतना
सन्नाटा क्यों है
कल तक जहा
गूंजती थी किलकारिया
आसमानी ठहाके
आज सब मौन क्यों है
घर से पहले
वो लड़की निकली
उसमे आज वो
बात नहीं थी
जिसे मै उसे जाते हुए देखता था
फिर निकले उसके पिता
रोज की तरह
बस चाल लडखडा रही थी
पैर पड़ रहे थे इधर उधर
फिर निकला
वो लड़का
आज उसमे भी वो  दबंगई नहीं दिखी
रह गयी घर में
अकेली माँ
वो नहीं निकली
शाम को
घर में आते कोई नहीं दिखा
शायद देर रात आये होंगे
और जल्दी ही बंद हो गयी बत्ती
कई हफ्ते हो गए
न सुनायी दिए ठहाके
और न ही
फुसफुसाने की ही आवाज
और फिर
एक जीप रुकी
पुलिस की थी शायद
घर से फिर भी कोई नहीं निकला
बस जीप में
वो लड़की थी और उसकी अटैची
दरोगा जी और ड्राइवर के बीच में
लाल जोड़े में
दबी बैठी थी
दुसरे दिन
मोहल्ले में सुर्खिया थी
दरोगा को भा गयी थी वो
चौथी बीवी बनाने को
उसने उसके बाप पर
बेटी की कमाई खाने का पाप मढ़ा
भाई पर ड्रग्स माफिया का
और सबसे बचाने को मांगी थी
छोटी सी कीमत
एक मेमने की जान 
कोई  बचा सकता है उस मेमने को
कानून तो कदापि नहीं
वो तो उसकी जेब में है 
क्या आप ?
आपने जाना ही कहा 
क्या हुआ उस घर में ?
और मै 
मै तो जान कर भी
अपने गमले सीचता रहा 
बस देखता रहा उधर
मैंने क्या , किशी ने भी
मुड कर  नहीं देखा
मेमने की निरीह आँखों को
भेड़िये के खूनी दांतों को
क्या तुम देखोगे
उसे बाचाओगे तुम
..... काश बचाते

-कुश्वंश


हिंदी में