30 जनवरी 2016

साईं कहां हो

कहाँ हो साईं
तुम्हारे दरबार मे
कूड़े सा मर गया मैं
और तुम चांदी का मुकुट पहने
अपने भक्तों को देते रहे सानिध्य
फूस की कुटिया मे , कभी न बुझने वाली लौ
तुम्हारे भक्तों के अंतर मे नहीं जली
वात्सल्य नही उमड़ा
किसी के भी हृदय मे
मुक्ति देने को सड़क से उठा कर
कूड़े सा भर लिया मुझे
तुम सिरडी मे नही थे शायद
किसी गरीब की झोपड़ी मे
दिये जला रहे थे  तुम
बाबा तुम ठीक कहते हो
सब का साई एक
जेब में खनखनाते सोने चांदी के सिक्के
बाबा
तुमनें कहां चाहा था 
हीरे सा मुकुट, 
और इस की ओट में
सम्पन्नता के ऐसो आराम की नींद लेते 
तुम्हें बन्धक बनाये भक्त
शायद उन्हें नहीं पता
तुम अब वहाँ नही रहते
और रह भी कैसे सकते हो
उस सम्वेदनहीन शहर मे 




हिंदी में