15 मार्च 2014

होली की हार्दिक शुभकामनायें



होली मे
मुह लाल नहीं
रंगीन बनाओ
होली मनाओ ...........
अंदर तक जो
छिपे हुये हैं
गिले शिकवे
वास्तव मे ,
सच्चे अर्थों मे आज भुलाओ
होली मनाओ ...........
रिस्ते-नाते
ओझल है जो,
दूर हो गए नज़रों से
होली मिठास की
उनमे फिर से
खुशी जागाओ
होली मनाओ ...........
माँ की ममता
बच्चों का स्नेह
आस-पास का बिखरा नेह
सबका फिर से मूल्य निबाहो
होली मनाओ ...........
रंगों का त्योहार निराला
विस्वप्रेम की  बुनलों माला
ईर्स्या, कटुता आतंकवाद  का
राग भुलाओ
होली मनाओ ...........


होली की हार्दिक शुभकामनायें

कुशवंश

हिंदी में