6 मार्च 2014

छोटी छोटी खुशियाँ


मेरे शहर
मुझे बहुत याद आते हो तुम
दूर तक सड़कों पर
इक्का दुक्का वाहन
मै साइकिल पर
कोसता फिरता था
कभी अपने को
कभी भगवान को
काश ऐशी गाड़ियों का सुख
मेरे नसीब मे भी होता
दुकानों मे पलक पावड़े बिछाए
दुकानदार
ग्राहक को देखते ही
आवभगत मे जुट जाता था
सामान न खरीदने पर भी
फिर  आइएगा की संस्कृति निभाता था
पड़ोसी की नई कार पर कई दिनों
मिठाइयों का दौर चलता था
इसके उसके यहा
रोज दावतों का ठौर लगता था
मानो गाड़ी पूरे मोहल्ले की आई हो
बेटी बेटियों की शादी बोझ नही होती थी
मोहल्ले भर का जश्न होता था
दामाद सारे  मोहल्ले का था
बहू हर घर की लक्ष्मी थी
चौराहों पर मै आगे , तुमसे आगे का
शोर नही होता था
क्रासिंग पर ट्रेन जाने का इंतज़ार
धैर्य से करते थे लोग
त्योहारों पर एक दूसरे की खुशियों मे शरीक होने का
शगल नही
मन होता था
दूरदर्शन पर
पूरा मोहल्ला देखता था चित्रहार
और ठहाके लगाता था
गुप्ता जी पकौड़िया खिला कर
गर्व से मुसकुराते थे
चौराहे के कुएं पर
राजनीति के दाव पेच  चले जाते थे
और हँसते मुसकुराते
सब सोने चले जाते थे
मेरे शहर
मुझे बहुत याद आते हो तुम

-कुशवंश



11 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह पोस्ट आज के (०६ मार्च, २०१४) ब्लॉग बुलेटिन -ईश्वरीय ध्यान और मानव पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. मीठी यादें ....सुन्दर ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. समय ही ज़िन्दगी का असली 'खाता' है !
    यादों का दिल से यूँ ही नहीं 'नाता' है !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर ,प्यारी यादें...
    सुन्दर रचना...
    ;-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (07.03.2014) को "साधना का उत्तंग शिखर (चर्चा अंक-१५४४)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें, वहाँ आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यादों का खजाना अंत तक साथ और सुकून देता है ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. पुरानी यादें ज़िन्दगी भर ताज़ा रहती हैं....कहाँ भूल पाते हैं उनको...

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब तो बस यादें हैं....
    सुन्दर,कोमल भाव..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. बीते कल की अब तो यादें ही शेष रह गईं हैं क्या शहर क्या वहां के लोग |
    बढ़िया अभिव्यक्ति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  10. दूरदर्शन पर
    पूरा मोहल्ला देखता था चित्रहार
    और ठहाके लगाता था

    खुबसूरत ,,अहसासों का वादा निबाहती रचना ,,,,,,
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  11. यादें साये सी हर पल साथ ......... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में