8 अप्रैल 2012

दिल ही दिल

रास्ते जैसे भी  थे ,  
संगीन थे
दोस्त जितने भी मिले
रंगीन थे
कुछ न कुछ तो था मगर
जाने न तुम
कनखियों की राह
पहचाने न तुम
रास्ते में जो मिले
ग़मगीन थे
जो भी मिले  संगी सभी
नमकीन थे 
पड़ोसी जितने मिले 
तमाशबीन थे 
क्या करे
पूंछे दिल का हाल
किससे
दिल ही दिल में सब
दिलों से हीन थे 

-कुश्वंश


9 टिप्‍पणियां:

  1. पूंछे दिल का हाल
    किससे
    दिल ही दिल में सब
    दिलों से हीन थे
    अच्छे पडोसी मिलना भी किस्मत की बात है... सुन्दर रचना...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज स्वार्थ के चलते लोगों के पास दिल बचा ही कहाँ है ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज की दुनिया का यही सच है...

    क्या करे
    पूंछे दिल का हाल
    किससे
    दिल ही दिल में सब
    दिलों से हीन थे

    बहुत अच्छी रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल ही दिल में सब
    दिलों से हीन थे
    यही तो विसंगति है

    उत्तर देंहटाएं
  5. गहन भाव व्यक्त करती सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल ही दिल में सब
    दिलों से हीन थे

    ....यही तो आज का कटु सत्य है... बहुत सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में