20 नवंबर 2011

जागो समय नहीं रुकता है











जागो समय नहीं रुकता है
पीछे जग मातम करता है
सबका कल पीछा करता है 
जागो समय नहीं रुकता है ...  
धीरे धीरे रेत सरकती
मुट्ठी, खाली खाली रहती 
रुक जाते  पर,  उड़ते उड़ते
मुह के बल पक्षी गिरता है
जागो समय नहीं रुकता है ....
वर्षों से जो सपने पाले
तपन, थकन से पड़ गए छाले
अनवरत रक्त , स्वेद  रिसता है
जागो समय नहीं रुकता है ....
मेहनत का हक उनसे मांगो
कर्त्तव्य  मार्ग पर पहले जागो
फिर जुटकर हुंकार भरो
चुप रहने से जग हंसता है
जागो समय नहीं रुकता है ....
आयेंगे कुछ छलने  वाले
चुपड़ी बाते करने वाले
सदियों से बाते सुन सुन कर
किसका पेट कहा भरता है
जागो समय नहीं रुकता है ...
चूक गए तो सोते रहना
हक की बात कभी मत कहना
समय मिला है इसे भुनाओ
अपने मन की बात गिनाओ 
गाल बजाते रहे अभी तक
माटी मोल देश बिकता है 
जागो समय नहीं रुकता है .. 
कुछ अपने कर्त्तव्य निबाहो
देश  प्रेम की अलख जगाओ
खुला गेट और सोता मालिक
ऐसे घर  कुत्ता घुसता है
जागो समय नहीं रुकता है ..

-कुश्वंश






17 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर आह्वान!

    समय की अनवरत रफ़्तार और इंसान की मुट्ठी से फिसलती रेत का विम्ब परस्पर पूरक से प्रतीत होते हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जागो समय नहीं रुकता है.... yahi mukhy baat hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. छाई चर्चामंच पर, प्रस्तुति यह उत्कृष्ट |
    सोमवार को बाचिये, पलटे आकर पृष्ट ||

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ………उत्साहवर्धन करती सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सार्थक सन्देश देती अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. जागो समय नहीं रुकता है ..
    बहुत शानदार रचना सर....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही है ..वक्त रहते ही जाग जाएँ तो अच्छा है

    उत्तर देंहटाएं
  8. कल 22/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर भाव और शब्द चयन |बधाई |
    कभी मेरे ब्लॉग पर भी आएं |

    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  10. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ... वक्‍त तो चलायमान है ही ...बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेहनत का हक उनसे मांगो
    कर्त्तव्य मार्ग पर पहले जागो
    फिर जुटकर हुंकार भरो
    चुप रहने से जग हंसता है
    जागो समय नहीं रुकता है ....

    मन में उत्साह का संचरण करने वाला उत्तम गीत।
    बधाई, कुश्वंश जी।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही है, समय किसी के लिए भी नहीं रुकता... हमें ही चलना होता है उसके साथ-साथ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रेरणा देती प्रभावशाली रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  14. जागो समय नहीं रुकता है
    पीछे जग मातम करता है

    सार्थक नवगीत ....प्रभावशाली

    उत्तर देंहटाएं
  15. वर्षों से जो सपने पाले
    तपन, थकन से पड़ गए छाले
    अनवरत रक्त , स्वेद रिसता है
    जागो समय नहीं रुकता है ....

    बेहतरीन जागरण गीत.

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में