30 मार्च 2013

एक पेड़ और वो बूढा
















तेज हवा के झोंकों से डर के  
चीख  पड़ता हूँ मैं 
इस अनियंत्रित हवा ने 
पहले पत्तियाँ  छीनीं 
टहनियां मेरे कन्धों से उखाड़कर 
दूर , इधर-उधर बिखेर दीं 
और ये निर्दयी हवा 
फिर भी न रुकी 
जब तक की मैं भूमि से उखड कर 
जमीन पर न आ गया 
अब मुझमें कुछ नहीं बचा 
जिसे  उखाड़  सके ये 
उस बूढ़े की तरह 
जिसका जीवन चित्र मुझसे मिलता है 
मुझे याद है 
जब मुझ मे 
बीज से 
कोपलें उगी थीं 
वो बूढा 
बच्चों के बीच ताली मार कर हंसा था 
जब मैं बूढ़े को छाया देने लायक हुआ 
तब वो जवानी के नशे में था 
उसे ना अपनी परवाह थी 
न मेरी छाया की चाह 
परवाह थी 
बस सौंदर्य की और 
सम्रधता के नित नए सोपानों की 
उसे उसकी भी कोई परवाह नहीं थी 
जो उसे बीच रास्ते छोड़ गयी 
नितांत अकेला 
लेकिन मुझे परवाह थी उसकी 
मैंने उसे ईंधन दिया 
धन दिया 
मेरी गोद में बढे उसके 
बेटी बेटे 
वे कभी मुझपर चढ़े 
मुझे नोंचा, झकझोरा , लहूलुहान किया 
फिर सब बड़े  हो गए
नए नए शहरों में बस गए
जब कभी शहरों से आये
तो हिदायत दे गए
पापा आप दूध नहीं पीते क्या ?
अब बूढा उन्हें नहीं बताता
मुझे बताता है
क्यों नहीं पीता वो दूध
सालों से क्यों नहीं पहने नए कपडे ?
लडकियां आतीं है
और मेरी उभरी जड़ों पर बैठ कर
पंचायत  करतीं हैं
भाई भाभियों के कर्त्तव्य गिनातीं हैं
और चली जातीं हैं
बूढा फिर सुनीं आंखें लिए मेरे पास आता है
और बिना कुछ कहे
डबडबाई आँखों से सब कुछ कह जाता है
अतीत का भोग हुआ यथार्थ
और भविष्य का ग्रहण लगा सूर्य
उसकी आँखों में उतर आता है
मेरी तरह
उसके पास भी
किसी को देने के लिए कुछ नहीं बचा
वो भी होगया है ठूंठ
और हवा को भी चलना है
वो चली
और ऐसी चली की मेरा सीना चीर गयी
कर्ज  से 
बूढ़े की रही सही जमीन भी चली गयी
और मैं 
सीधा तने रहकर भी
पुख्ता और  मजबूती का दंभ भरने वाला
दो फांकों में बटकर जमीन पर बिखर गया
....
सूर्य की  लालिमा फुट रही थी
मेरी बिखरी पडी टहनियों के मध्य
वो बूढा भी  
सो रहा था
बिना हिले डुले 
....










12 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद गहराई लिए बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया तुलना की है रचना में |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  3. सूर्य की लालिमा फुट रही थी
    मेरी बिखरी पडी टहनियों के मध्य
    वो बूढा भी
    सो रहा था
    बिना हिले डुले-------जीवन का एक परिवार का
    सच वाकई आज अपना कुछ नहीं,बस करते जाना है
    सुंदर रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक कड़वे समय का सच......जो आखिर निश्चित है.......
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बूढ़े पेड़ और इंसान का तुलनात्मक परिचय ...सोचने को मजबूर करता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. मार्मिक अभिव्यक्ति...
    बहुत कडवी सच्चाई है जिसका सामना हमें अक्सर करना पढ़ जाता है...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर और भावपूर्ण रचना | जीवन के कटु सत्यों को उजागर करती मार्मिक प्रस्तुति | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं

  8. कल दिनांक 01/04/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सार्थक मर्मस्पर्शी रचना प्रस्तुति ....आभार,,...

    उत्तर देंहटाएं
  10. मनुष्य हो या पेड़ पौधे या पशु पक्षी सभी के जीवन का ऐसे ही अंत... बहुत मार्मिक और संवेदनशील रचना, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  11. यही तो विडंबना है चाहे मनुष्य हों ....
    या फिर वृक्ष हों...
    मर्मस्पर्शी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहद गहराई और बहुत बढ़िया तुलना की है रचना में....बहुत बहुत आभार कुश्वंश जी

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने का धन्यवाद.आपके बेबाक उदगार कलम को शक्ति प्रदान करेंगे.
-कुश्वंश

हिंदी में